सिविल इंजीनियरिंग क्या है? और 2022 में कैसे इसमें आगे बढ़ें | Civil Engineering in Hindi.

हेलो दोस्तों, आशा है कि आप अच्छा कर रहे होंगे, जैसा कि आप लोग जानते हैं कि सिविल इंजीनियरिंग को अपने करियर के रूप में बनाने का बहुत अच्छा ऑप्शन होता है। फर्क नहीं पड़ता है आप 12वीं पास या फिर 10वीं पास किये हो आप सिविल इंजीनियरिंग में आप अपना करियर बना सकते है।

आज के ब्लॉग पोस्ट में मैं आपको एक सिद्ध रूप से पूरा ज्ञान दूंगा।

यह 2022 है। और यह 2022 के हिसाब से मेने अपने लिए पूरी जानकारी निचे निचे दिए गए आर्टिकल दे दी है जिस पूरी जानकारी को प्राप्त करने के लिए मुझे पूरा एक महीना लगा है। तो में आशा करता हूँ की आपको मेरी यह जानकारी आपको जरूर मददगार साबित होगी।

सिविल इंजीनियर हमारी Social जिंदगी का एक प्रमुख हिस्सा होता है, civil engineer meaning in hindi Civil का मतलब होता है “जो सार्वजनिक रूप से कार्य करते हैं” Engineer का मतलब है “जो किसी चीज का आविष्कार करता है” मतलब कि सिविल इंजीनियर वह व्यक्ति होता है “जो लोगों के साथ मिलकर कोई भी चीज का आविष्कार करता है”

Civil Engineering in Hindi

Civil Engineer का हमारी जिंदगी में एक बहुत प्रमुख स्थान होता है, सिविल इंजीनियरिंग एक प्रकार से हमारे मनचाहे मकान वा घर को बनाने का कार्य करती है, आज हमें जो भी बड़े-बड़े मॉल और बिल्डिंग्स नजर आती है, वह एक सिविल इंजीनियर का ही कमाल है, हम यह भी कह सकते हैं कि, आज के इस आधुनिक दौर का एक प्रमुख ढांचा सिविल इंजीनियर ही है, जिस प्रकार कोई भी देश बिना किसी भी बुनियादी ढांचे के प्रगति नहीं कर सकता, उसी प्रकार बिना Civil Engineer के किसी भी देश के अंदर कभी भी बड़ी बिल्डिंग और इमारतें नहीं बनाई जा सकती।

जैसे-जैसे समय बदला, उसके साथ-साथ सिविल इंजीनियर के अंदर भी बहुत सारे क्रांतिकारी बदलाव आए हैं, यदि आप सिविल इंजीनियर बनकर देश की प्रगति में मदद करते हैं, तो यह भी एक बहुत बड़ी गर्व की बात है, अब आपको यह तो समझ आ गया होगा कि Civil Engineering क्या होता है और यह क्या कार्य करता है, अब हम आपको बताएंगे कि, सिविल Engineer आप कैसे बन सकते हैं और यह प्रमुख रूप से क्या कार्य करते हैं और यह बनने के बाद आपको क्या-क्या फायदे होंगे, साथ में यह भी वर्गीकरण करेंगे कि, civil engineer in hindi mistri का क्या मतलब होता है या फिर “Civil Engineering in Hindi” के बारे में संपूर्ण जानकारी आज हम आपको इस आर्टिकल के अंदर देंगे।

Contents hide

Civil Engineering क्या है? Civil Engineering in Hindi.

Engineering की बहुत सारी ब्रांच होती है, उन्हीं ब्रांच में से एक ब्रांच का नाम है, “सिविल इंजीनियरिंग” (civil engineer in hindi), इस ब्रांच में जो प्रमुख सुविधा होती है, यानी इसकी जो बुनियादी सुविधा है, उनका नाम है प्रोजेक्ट, डिजाइन और रखरखाव के बारे में, इसके अंदर सिखाया जाता है, सबसे पुरानी ब्रांच सैन्य इंजीनियरिंग है, इसके बाद सिविल इंजीनियरिंग का ही नंबर आता है, यानी आप यह कह सकते हैं कि, सैन्य इंजीनियरिंग के बाद सिविल इंजीनियरिंग की सर्वश्रेष्ठ है, सिविल इंजीनियरिंग सार्वजनिक तौर पर बहुत से कार्य करती है।

आज हमारा देश जो तरक्की कर रहा है, उसकी एक प्रमुख जड़ civil engineering ही है, यदि सिविल इंजीनियरिंग में हो, तो हमारा देश इतनी बुलंदियों को कभी नहीं छू पाएगा जो हमारे देश में आज के आधुनिक दौर पर बड़ी-बड़ी इमारतें बनाई जाती है जिनके द्वारा हमारे देश को बहुत ज्यादा फायदा होता है यह एक सिविल इंजीनियरिंग का ही नमूना है।

Reasons for Civil Engineering

उदाहरण के लिए, आप यह कह सकते हैं कि, जब आपको यह पता लगाना हो, कि एक प्लाट के अंदर घर कितना बड़ा बन सकता है और उस घर के अंदर कितने कमरे होंगे, रसोई कहां पर होगी, यह सभी बातें एक Civil Engineering ही आपको बता सकता है और Civil Engineering ही उन सभी चीजों को डिजाइन करता है, जो भी आपके मन में होती है, Civil Engineering उसका एक नमूना तैयार कर देता है और उसके बाद उस प्लाट के अंदर आपके मन चाहे घर को बना कर तैयार करता है, यदि Civil Engineering ना हो तो, आपके घर का डिजाइन कभी भी बन नहीं पाएगा और ना ही आप अपने घर के लिए दीवारें खड़ी कर पाएंगे।

Civil Engineering क्यों करें? । Reasons for Civil Engineering

Civil Engineering का मतलब जानने से पहले, आपको यह बात जरूर जानी होगी कि, आप सिविल इंजीनियरिंग क्यों करें या फिर इस कोर्स के क्या फायदे होते हैं और यह कोर्स करके आप क्या-क्या कार्य कर सकते हैं, इन सभी चीजों की सूची हमने नीचे बनाई है, जोकि निम्नलिखित है:-

Physical Reason ( व्यवहारिक कारण ):-

जो आप सिविल इंजीनियर के द्वारा डिग्री प्राप्त करते हैं, वह आपके करिकुलम के कार्यकाल के पढ़ने को शामिल करती है, इसके द्वारा आपके Engineering के प्रति रुचि को बढ़ाती है और यह आपके इंजीनियरिंग के प्रति Interest को और अधिक पैदा करती है और साथ में इसके अनुभव को भी बढ़ाती है, आपने आज तक जो भी अपने Class के सिलेबस में पढ़ा है, यह उसको एक नवीन रूप प्रदान करती है, इसके द्वारा आप आगे चलकर एक अच्छे इंजीनियर के रूप में निखार सकते हैं और यह आपको आगे कामयाबी प्राप्त करने में भी सहायता करते हैं, अब आपको पता तो चल ही गया होगा कि, Civil Engineering in Hindi आपको व्यवहारिक रूप से किस प्रकार आपके ऊपर प्रभाव डालते हैं, चलिए अब हम आपको एक दूसरा कारण बताते हैं।

Different options in education (अध्ययन क्षेत्र में विभिन्नता) :-

जब आप Civil Engineering का कोर्स करते हैं, तो  यह आपके सामने बहुत से options खोल देता है, यानी जब आप सिविल इंजीनियरिंग कर रहे हैं, तो आपके सामने बहुत से भी विकल्पों और रास्ते होते हैं, जिनसे आप अपने भविष्य को उज्जवल बना सकते हैं, यदि आप प्रमुख रूप से ही सिविल इंजीनियरिंग का कोर्स कर रहे हैं, तो इस डिग्री के दौरान आपको भूमि संरक्षण, निर्माण परियोजना, हाइड्रोलिक और गणित का भी कुछ ज्ञान होना बहुत ज्यादा अनिवार्य होता है और इस डिग्री के दौरान आपको इन सब की जानकारी भी दी जाती है, यानी जब आप Civil Engineering in Hindi का कोर्स कर रहे हैं, तो इससे आपको विभिन्न विषयों की जानकारी मिलती है, सिविल Engineer एक प्रकार से सभी विषयों को एक साथ जोड़ कर आपको बता सकता है, क्योंकि उसने उन सभी विषयों का ज्ञान लिया होता है।

Civil Engineering Kya Hai

Postgraduate Option (पोस्टग्रेजुएट का अवसर):-

जब आप अपनी civil engineer meaning in Hindi की पढ़ाई को खत्म कर लेंगे, तो आपके सामने बहुत से ऑप्शन होंगे, आप उनमें से किसी एक का चयन करके आगे बढ़ सकते हैं, उनमें से कुछ ऑप्शन होंगे जैसे कि:- योग्य इंजीनियर, नियमित इंजीनियर, समुंद्री सिविल इंजीनियर या फिर पर्यावरण इंजीनियर, यह सभी एक प्रकार से Civil Engineering के ही भाग है, तो आप इन किसी भी क्षेत्र में से जाकर अपने भविष्य को उज्जवल बना सकते हैं, आपको किसी एक क्षेत्र का चयन करके, उसमें अपना 100% देना होगा, जिससे कि आपको आगे कामयाबी मिल सके, जब आप पढ़ाई पूरी करके Civil Engineer का कोर्स करोगे और उस में से किसी एक शाखा पर काम करोगे, तो उसे ही पोस्टग्रेजुएट कहते हैं।

रोजगार का अवसर (Employment):-

जब आप इंजीनियरिंग के क्षेत्र में जाते हैं, तो यह आपको बस इंजीनियरिंग का ही कौशल नहीं देता, इसके विपरीत यह आपको एक रोजगार का भी बहुत अच्छा मौका देता है, आप जिस भी उद्योग के अंदर अपने जीवन को सफल बनाना चाहते हैं, उस उद्योग का आपको सबसे पहले चयन करना है और फिर उसके अंदर आपको ग्रेजुएट होना है, इस में यदि आप सिविल इंजीनियर को चुनते हैं, तो यह आपको रोजगार का एक बहुत अच्छा अवसर देगा और इसके रोजगार के अंदर आपकी एक बहुत अच्छी कमाई होगी, आमतौर पर इसका वेतन लगभग 31000 होता है, जो कि एक बहुत अच्छी राशि है, आमतौर पर किसी अन्य नौकरी के द्वारा आप इतना वेतन नहीं कमा सकते, इसके साथ इस नौकरी में आप को बहुत अधिक प्रमोशन भी मिलता है, तो आप अपने जीवन में आगे बढ़ते रहते हैं और नई बुलंदियों को छूते रहते हैं।

Employment with satisfaction (नौकरी से संतुष्टि):-

जब आप Civil Engineer बन जाते हैं, तो यह आपके जीवन पर भी बहुत ज्यादा असर डालता है, आप सिर्फ एक नौकरी नहीं कर रहे होते, आप अपने पूरे समाज को एक नई सोच प्रदान करते हैं, वह अपने पूरी समाज को विकसित बनाते हैं, आप अपने समाज में एक नया बदलाव लाते हैं और जो आपके समाज में हो रहा है,आप उसमें भी योगदान देते हैं, साथ में यह आपके गणित, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के ज्ञान को एक साथ लाकर किसी अच्छे काम में लगाने में मदद करेगा, आमतौर पर हम जिस नौकरी में होते हैं, हमें उस में अधिक दिलचस्पी नहीं होती, हम सिर्फ वेतन के लिए कार्य करते हैं, परंतु Civil Engineering में ऐसा बिल्कुल नहीं होता, जब आप सिविल इंजीनियरिंग का कोर्स कर रहे हो या फिर आप की डिग्री पूरी हो जाती है, तो यह आपके लिए एक बहुत ज्यादा रोमांचककारी समय होता है, क्योंकि आप इसमें अपने इंटरेस्ट को आगे लेकर जाते हैं, ना कि, वेतन के लिए कार्य करते हैं।

Main features (मूल्यवान कौशल):-

Civil Engineering की पढ़ाई करते समय आपके अंदर कई से अन्य कौशल भी पैदा हो जाते हैं, यह आपको इंजीनियरिंग के करियर के लिए तैयार करता है, साथ में आपके शारीरिक और मानसिक व व्यवहारिक सरंचना को भी सुधारता है, साथ में आपके दिमाग के काम करने की भी शक्ति को बढ़ाता है, इसके अंदर आप अपने मन के भाव को अधिक तेजी से काम करवा सकते हैं, इसके अंदर एक और अन्य चीज आती है, जिसे संचार और निर्णय लेने का कौशल कहते हैं, यह भी Engineering का एक बहुत प्रमुख हिस्सा होता है, जब आप इंजीनियरिंग कर रहे हो, तब आपके अंदर यह कौशल उत्पन्न किए जाते हैं, ताकि भविष्य के अंदर आपको कोई भी अन्य समस्या न आए, यह कौशल आपको Civil Engineering करने के बाद बहुत ज्यादा काम आते हैं।

Branch of Civil Engineering (सिविल इंजीनियरिंग के प्रकार)

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया सिविल इंजीनियर के बहुत से प्रकार होते हैं, उनमें से कुछ के नाम हमने ऊपर पहले भी लिए, पर अब हम उन सभी का वर्गीकरण करके आपको बताते हैं और कुछ चुनिंदा सिविल इंजीनियर के नाम बताते हैं, जो कि सिविल इंजीनियरिंग करके बने हैं जो निम्नलिखित हैं:-

स्ट्रक्चर इंजीनियर:-

स्ट्रक्चर इंजीनियर मुख्य काम किसी भी बिल्डिंग, टावर, बांधों, नेहर के पुल आदि कई अन्य इमारतों के डिजाइन तैयार करना होता है, आप यह भी कह सकते हैं कि, स्ट्रक्चर Engineer किसी भी बनने वाली बिल्डिंग का प्रारूप पहले ही तैयार कर देता है, इसीलिए इसको स्ट्रक्चर इंजीनियर कहते हैं क्योंकि, यह हर चीज का डिजाइन व स्ट्रक्चर तैयार करता है।

जल संसाधन इंजीनियर:-

जल संसाधन Engineer कार्य प्राकृतिक से मिली हर चीज का शोध करना होता है, यह प्रकृति से मिलने वाली चीजों के बारे में जांच पड़ताल करते हैं और इसके अंदर भी इंजीनियर को डिजाइन के बारे में पढ़ाया जाता है कि, वह प्रकृति से मिली चीजों को किस प्रकार डिजाइन करेगा और उसके बाद उसका कैसे निर्माण करेगा।

जल संसाधन इंजीनियर

Environmental Engineering (पर्यावरणीय इंजीनियरिंग):-

पर्यावरण इंजीनियर के अंदर आपको रसायनिक चीजों के बारे में सिखाया जाता है जैसे कि, आप किस प्रकार जल शोधन और वायु वेस्ट से निपटने का कार्य करेंगे, आप यह भी कह सकते हैं कि एनवायरमेंटल इंजीनियर या फिर पर्यावरण इंजीनियर मैं आपको पर्यावरण से संबंधित सभी जानकारियां दी जाती है।

City Engineering (शहरी इंजीनियरिंग):-

शहरी इंजीनियर का एक दूसरा नाम भी होता है जिसे “अर्बन इंजीनियरिंग” कहते हैं, इसके अंदर आपको सड़कों के निर्माण के बारे में, सार्वजनिक तौर पर बनने वाले पारक के बारे में और उन सब के रखरखाव के बारे में सिखाया जाता है, यह इंजीनियरिंग एक प्रकार से सार्वजनिक कार्य करने में आपको सहायता करेगी, इसमें सार्वजनिक जगह पर होने वाले का शामिल होते हैं, उनके डिजाइन तैयार करने के बारे में सिखाया जाता है।

Building Making Engineering भवन निर्माण इंजीनियरिंग:-

भवन निर्माण Engineering में भवन का बनना शामिल नहीं होता, इसके अंदर भवन बनाने में जो सामग्री इस्तेमाल होती है, उसके बारे में सिखाया जाता है, इसके अंदर उन सामग्री के नुकसान और लाभ बताए जाते हैं और उनके उद्देश्य भी बताए जाते हैं और साथ में यह भी बताया जाता है कि, आप इसे किस तरह इस्तेमाल कर सकते हैं, इसके लिए आपकी भवन निर्माण Engineering भी सर्वश्रेष्ठ है।

Transportation Engineering(परिवहन इंजीनियरिंग):-

इसके अंदर आपको परिवहन से संबंधित सारी जानकारियां दी जाती है, जैसे कि:- हवाई अड्डा, रेलवे लाइन और सड़कों के बारे में बताया जाता है और साथ में यह भी बताया जाता है कि, आप इन सब का डिजाइन में निर्माण कैसे कर सकते हैं और यह हमारे सामाजिक जीवन के लिए क्या महत्त्व रखते हैं।

Strom Engineering(भूकंप इंजीनियरिंग):-

Engineering की इस शाखा के अंदर आपको भूकंप-प्रूफ  की इमारतें कैसे बनाई जाती है, यह सिखाया जाता है, साथ में यह भी बताया जाता है कि, आप बिल्डिंग का डिजाइन किस तरह तैयार करें कि, वह भूकंप के झटके को सहन कर सके, एक प्रकार से आपको यह सिखाया जाता है कि, आप भूकंप से बचाव वाली बिल्डिंग कैसे बना सकते हैं।

Construction Engineering (कंस्ट्रक्शन इंजीनियरिंग):-

इस के अंदर आपके Building का डिजाइन तैयार होता है, आपको सिर्फ कंस्ट्रक्शन के बारे में बताया जाता है, यानी इसमें आपको सिर्फ बिल्डिंग की प्लानिंग और कंस्ट्रक्शन के कार्य के बारे में समझना होता है और इस शाखा के अंदर आपको सिर्फ, इन्हीं चीजों के बारे में बताया जाता है कि, बिल्डिंग बनाते समय धरती पर कितने इंच की नीव भरी जाए,  पृथ्वी की ऊंचाई क्या होनी चाहिए और पृथ्वी के मापदंड के बारे में समझाया जाता है।

Geo Technical Engineering (जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग):-

इस शाखा के अंदर सिर्फ आपको जहां पर है जहा बिल्डिंग खड़ी हो रही है, उस जगह के मिट्टी और चट्टान के व्यवहार के बारे में बताया जाता है, इसके अंदर आपको मिट्टी से संबंधित जानकारियां दी जाती है, ताकि भविष्य में जब भी आप किसी बिल्डिंग का निर्माण करें, तो उस समय आप सही धरती या भूमि पर ही बिल्डिंग का निर्माण करें, ताकि भविष्य के अंदर इसमें कोई समस्या नहीं आई।

Steps for Civil Engineering

यदि आप भविष्य के अंदर सिविल इंजीनियर बनना चाहते हैं तो आपको बहुत से स्टेप्स का पालन करना होता है जो कि अपने नीचे बताए हैं कृपया करके इसे ध्यान से पढ़ें:-

Civil Engineer Kaise Bane

Bachelor Degree (बैचलर डिग्री):-

यदि आप भविष्य के अंदर Civil Engineering करना चाहते हैं, तो आपको सबसे पहले सिविल इंजीनियर की 4 साल की पढ़ाई को पूरा करना होता है, जब आप इन चार साल की पढ़ाई को पूरा कर लेते हैं, तो आपको बैचलर डिग्री प्राप्त होती है, इन शुरुआती साल के अंदर आपको सिविल इंजीनियर के Basic के बारे में बताया जाता है, यानी इसके अंदर आपको आगे भविष्य में होने वाले कार्य के बारे में बताया जाता है, मतलब यह है कि “आप जब सिविल इंजीनियर का कोर्स कर रहे हो, तब आपको आगे आने वाले समय में बिल्डिंग बनाने वा उसका डिजाइन तैयार करने के बारे में बताया जाता है” स्पष्ट तौर पर कहा जाए तो, इसके अंदर आप को प्रशिक्षण दिया जाता है, ताकि भविष्य के अंदर आपके सामने कोई भी समस्या नहीं आए।

Junior Civil Engineer (व्यावसायिक अनुभव):-

Junior Civil Engineer kaise bane इसके अंदर आपको ट्रेनिंग दी जाती है कि, आप भविष्य में कैसे काम करेंगे, एक Engineer के लिए यह सबसे प्रमुख समय होता है, क्योंकि इस समय वह Basic चीजें तो सीख चुका होता है और अब वह एक इंजीनियर के रूप में कार्य करता है, यह लगभग चार साल तक चलता है, जब वह बेसिक चीजों के बारे में नॉलेज प्राप्त कर लेता है तो अब वह प्रोफेशनल इंजीनियरिंग का एग्जाम दे सकता है और बाद में PE लाइसेंस के लिए आवेदन कर सकता है या फिर प्रार्थना लिख सकता है, जो यह समय होता है, जिस समय वह ट्रेनिंग करता है, यह एक सिविल इंजीनियर के जीवन का सबसे प्रमुख समय होता है क्योंकि वह इसी समय के दौरान ही सभी चीजों के बारे में सही तरीके से सीखता है, Basic चीजें तो वह पहले ही सीख चुका होता है,अब उसे प्रैक्टिकल करके सारी चीजें सीखनी होती है।

Master Degree (मास्टर्स डिग्री):-

Civil Engineer के लिए मास्टर डिग्री करना इतना ज्यादा जरूरी नहीं होता, पर यदि वह इस डिग्री को करता है, तो भविष्य में निसंदेह उसकी कमाई और उसकी नॉलेज या फिर आप कह सकते हैं कि, उसके ज्ञान में बहुत ज्यादा वृद्धि होती है, यदि आपने सिविल इंजीनियरिंग के साथ मास्टर डिग्री भी की होती है, तो आपको एक अच्छी नौकरी प्राप्त होती है, जिस का वेतन भी बहुत ज्यादा अच्छा होता है, तो इसलिए मास्टर डिग्री भी सिविल इंजीनियरिंग के लिए जरूरी हो जाती है, पर यह एक Option होता है, यदि कोई व्यक्ति इसे नहीं करना चाहता, तो इसकी इतनी ज्यादा जरूरत भी नहीं होती है।

Certificate (सर्टिफिकेट):-

Civil Engineer के जो भी कार्य होते हैं, उनमें बड़ी ही जटिलता पाई जाती है, तो इसके लिए आपको कुछ अन्य सर्टिफिकेट भी लेने होते हैं, जैसे कि:- आप कंप्यूटर कौशल में निपुण हो सकते हैं या फिर आपको पर्यावरण के लिए जो परियोजनाएं चलाई जाती है उनकी आपको अधिक नॉलेज प्राप्त करनी होती है, ताकि सिविल इंजीनियरिंग करते समय आपके सामने कोई भी समस्या न आए।

Subjects for Civil Engineering:-

जब आप Civil Engineering in Hindi कर रहे होते हो तो, आपको कुछ प्रमुख विश्व की जानकारी होना बहुत जरूरी होता है या फिर आप कह सकते हैं कि, जब आप सिविल इंजीनियरिंग कर रहे हो, तो उस समय आपको इन विश्व के बारे में बताया जाता है और पढाया जाता है क्योंकि यही विषय सिविल इंजीनियरिंग के एक प्रमुख जड़ होती है,  बिना इन विश्व के आप न तो कभी सिविल इंजीनियरिंग कर सकते और ना ही कभी किसी इमारत को खड़ा कर सकते हो, तो यह प्रमुख विषय निम्नलिखित है:-

  1. सॉलिड मैकेनिक्स
  2. मैकेनिक्स
  3. इस्पात संरचनाओं का design
  4. IT & CAD एप्लिकेशन
  5. मृदा यांत्रिकी और फाउंडेशन इंजीनियरिंग
  6. RC संरचनाओं का Design
  7. जल संसाधन Engineering
  8. संरचनात्मक विश्लेषणजल और अपशिष्ट जल Engineering
  9. सॉलिड मैकेनिक्स
  10. हाइड्रोलिक्स
  11. परिवहन Engineering
  12. Maths
  13. फिजिक्स
  14. Basic इलेक्ट्रॉनिक
  15. विद्युत प्रौद्योगिकी

Qualifications for Civil Engineering

यदि कोई व्यक्ति Civil Engineering का कोर्स करना चाहता है, तो उसके अंदर बहुत सी Qualifications भी होनी चाहिए, आप सीधा जाकर ही सिविल इंजीनियरिंग का कोर्स नहीं कर सकते, इसके लिए आपको सबसे पहले कुछ चीजों का ध्यान रखना होता है, उन चीजों का वर्गीकरण आज हमने नीचे किया है, आप उन सब चीजों के बारे में पढ़कर यह सोच सकते हैं कि, आप सिविल Engineering के लायक है या नहीं, यह चीजें निम्नलिखित है:-

University Graduate (UG):-

इसका मतलब होता है कि, आपके पास 12th क्लास के अंदर साइंस स्ट्रीम होनी चाहिए और उसके अंदर आप कोई ना कोई यूनिवर्सिटी के द्वारा अच्छे मार्क्स प्राप्त होने चाहिए, इसके साथ आप की JEE, MHT जैसी परीक्षाओं को भी क्लियर करना होता है, यदि आप विदेश में जाकर Civil Engineering करना चाहते हैं, तो आपको SAT और ACT की परीक्षा भी उत्तीर्ण करनी होती है, परंतु बहुत कम लोग ही विदेश में जाकर सिविल Engineering की परीक्षा देना चाहते हैं, क्योंकि जो व्यक्ति Civil Engineering करता है, वह अपने देश में ही रहकर कार्य करना चाहता है, पर यदि किसी व्यक्ति की इच्छा बाहर जाकर काम करने की है, तो उसे ACT और SAT के एग्जाम को उत्तरण करना होता है।

Diploma/Certificate:-

आपके पास किसी एक अच्छी University का 12th पास का सर्टिफिकेट होना चाहिए,  क्योंकि यही आपके Civil Engineering में एडमिशन फॉर्म के रूप में काम आता है, यदि आपके पास ट्वेल्थ क्लास का सर्टिफिकेट नहीं है, तो आप इंजीनियरिंग में दाखिला नहीं ले सकते, आप को दाखिला लेने के लिए ट्वेल्थ क्लास का अच्छे नंबरों का और साइंस स्ट्रीम का सर्टिफिकेट होना जरूरी है, जिसे हमारी सामान्य भाषा में DMC कहते हैं।

PG Certificate or course:-

जब आप Civil Engineering in Hindi करना चाहते हैं, तो आपके पास GPA होना जरूरी होता है, BA या B-TECH जैसी यूजी डिग्री होनी चाहिए, UG डिग्री या हमने आपको ऊपर ही बता दी कि क्या होती है, यदि आप विदेश में जाकर मास्टर डिग्री करना चाहते हैं, तो वहां की University आपको सबसे पहले 2 साल का अनुभव मांगेगी और यह जो समय हमने बताया है, यह हर यूनिवर्सिटी का अलग-अलग होता है, कोई भी यूनिवर्सिटी एक निश्चित समय पर कार्य नहीं करती, आपके पास कम से कम 2 या 3 साल का अनुभव होना जरूरी होता है।

Foreign University:-

जब आप विदेश में जाकर Civil Engineering करते हैं, तो आपको यूजी या पीजी कोर्स के साथ कुछ अन्य परीक्षाओं में भी अच्छे अंक लेने होते हैं,  जो परीक्षाओं के नाम होते हैं GMAT और GRE, इन परीक्षाओं में यदि आप अच्छे अंक नहीं ले पाते, तो आप विदेश की University में एडमिशन नहीं ले पाएंगे, विदेश यूनिवर्सिटी में एडमिशन लेने का सिर्फ यही एक विकल्प है, कि आपके इन परीक्षा में अच्छे अंक होने चाहिए।

Demands of Foreign University:-

यदि आप Civil Engineering विदेश में जाकर करेंगे, तो यह भी सामान्य बात है कि, वहां की भाषा आपको आनी चाहिए, तो वहां की भाषा का भी एक टेस्ट होता है जिसे IELTS या PTE कहते हैं, यदि आप इन टेस्ट में उतरे नहीं हो पाते, तो आप विदेश में जाकर सिविल इंजीनियरिंग नहीं कर पाएंगे, तो आपको सिविल इंजीनियरिंग करने के लिए PTE का टेस्ट क्लियर करना ही होगा और उसमें अच्छे अंक प्राप्त करने होंगे।

FAQ

Q.1 सिविल इंजीनियर का मतलब क्या है?

Ans :– Engineering की बहुत सारी ब्रांच होती है, उन्हीं ब्रांच में से एक ब्रांच का नाम है, “सिविल इंजीनियरिंग” (Civil Engineering in Hindi), इस ब्रांच में जो प्रमुख सुविधा होती है, यानी इसकी जो बुनियादी सुविधा है, उनका नाम है प्रोजेक्ट, डिजाइन और रखरखाव के बारे में, इसके अंदर सिखाया जाता है, सबसे पुरानी ब्रांच सैन्य इंजीनियरिंग है, इसके बाद सिविल इंजीनियरिंग का ही नंबर आता है

Q.2 सिविल इंजीनियर बनने के लिए क्या करना पड़ेगा?

Ans :– आपको civil engineering में बीटेक, बीई, डिप्लोमा कोर्स करना होगा। बीटेक कोर्स के लिए आप 12वीं पीसीएम सब्जेक्ट से पास हों। इसके साथ ही 10वीं  या 12वीं के बाद पॉलीटेक्निक डिप्लोमा इन civil engineering भी कर सकते हैं। एमटेक के लिए बीटेक होना जरूरी है।

Q.3 सिविल में क्या क्या आता है?

Ans :– डिज़ाइन के आधार पर सभी जरुरत वाले मटेरियल जैसे ईंट, सीमेंट, बालू, सरिया इत्यादि मंगाया जाता है और इसके निर्माण का काम किया जाता है. इन सभी को पूरा करने में civil engineer का सबसे अहम् रोल होता है. जिस तरह से घर का निर्माण किया जाता है उसी तरह से डैम, नहर, स्टेडियम, शॉपिंग माल्स, रोड, पाइपलाइन का भी काम किया जाता है.

Q.4 इंजीनियरिंग का सबसे अच्छा ब्रांच कौन सा है?

Ans :– इंजीनियरिंग की फील्ड जैसे Civil Engineering in Hindi, इलेक्ट्रानिक्स engineer, सॉफ्टवेयर, इलेक्ट्रिकल, न्यूक्लियर, पेट्रोलियम, एग्रीकल्चर, ऑटोमोबाइल, एयरोस्पेस, मैकेनिकल, माइनिंग, फायर इंजीनियरिंग और केमिकल इंजीनियरिंग जैसी शाखाएं तो पहले ही काफी पॉपुलर हैं 

Q.5 सिविल इंजीनियरिंग में बैचलर्स कोर्स कितने साल का होता है?

Ans :– civil engineering में Bachelors Course 4 साल का होता है।

Q.6 सिविल इंजीनियर की भारत में सैलरी कितनी होती है?

Ans :– सिविल इंजीनियर की भारत में आमतौर पर इसका वेतन लगभग 31000 होता है

Q.6 सिविल इंजीनियरिंग में क्या करना पड़ता है?

Ans :– यानी आप यह कह सकते हैं कि, सैन्य इंजीनियरिंग के बाद सिविल इंजीनियरिंग की सर्वश्रेष्ठ है, सिविल इंजीनियरिंग सार्वजनिक तौर पर बहुत से कार्य करती है।

Conclusion:-

आज के इस आर्टिकल के अंदर हमने आपको Civil Engineering in Hindi से रिलेटेड सभी जानकारियां दी और यह भी बताया कि, जब आप सिविल इंजीनियर बन जाते हैं, तो आपको क्या-क्या कार्य करने होते हैं, यदि आज का हमारा यह आर्टिकल आपको पसंद आया हो, तो इसे अपनी सोशल मीडिया साइट्स पर अधिक से अधिक शेयर करें, ताकि जो लोग सिविल इंजीनियरिंग करना चाहते हैं, उनको भी इस के बारे में कुछ पता चल पाए, कोई भी समस्या आने पर आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं, हम आपके कॉमेंट का जल्द से जल्द रिप्लाई करेंगे।

धन्यवाद!

Sharing Is Caring:

मेरा नाम Pankaj Kumar है और मुझे इस ब्लॉग के माध्यम से अपने ज्ञान को इंटरनेट उपयोगकर्ताओं के साथ बांटना पसंद है। इस ब्लॉग के जरिए मैं सिविल इंजीनियरिंग से संबंधित जानकारियां शेयर करता हूं।

8 thoughts on “सिविल इंजीनियरिंग क्या है? और 2022 में कैसे इसमें आगे बढ़ें | Civil Engineering in Hindi.”

Leave a Comment

DMCA.com Protection Status